मुजफ्फरपुर स्मार्ट सिटी की हवा साफ करने के लिए मिले चार करोड़ रुपये, मशीन से होगी NH की साफ-सफाई

शहर से सटे एनएच से धूल कण और प्रदूषण को कम करने के लिए अब रोड स्वीपिंग से सफाई होगी. प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की ओर से नगर निगम प्रशासन को चार करोड़ रुपये उपलब्ध कराया गया है. निगम प्रशासन के अनुसार इस राशि का खर्च प्रदूषण नियंत्रण पर करना है. ऐसे में एनएच की सफाई के लिए एक करोड़ रुपये से बड़े रोड स्वीपिंग मशीन की खरीदारी की तैयारी शुरू हो गयी है. नगर आयुक्त विवेक रंजन मैत्रेय ने बताया कि शहर से सटे एनएच पर 24 घंटे वाहनों का दबाव बना रहता है.

प्रदूषण पर नियंत्रण के लिए राशि उपलब्ध करायी गयी

धूल कण के साथ प्रदूषण का लेवल नहीं कम होता है. बताया कि क्षेत्र विस्तार की प्रक्रिया भी चल रही है. इसे ध्यान में रखते हुए उपकरणों के खरीदारी की तैयारी चल रही है. एनएच के रोड स्वीपिंग मशीन के लिए दो कंपनी का प्रस्ताव भी देखा गया है. इसके साथ ही नगर निगम के लिए एक और सुपर सकर मशीन की खरीदारी होगी. इसके बाद निगम के पास सुपर सकर की संख्या तीन हो जायेगी. प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की ओर से निगम प्रशासन को दूसरी बार राशि आवंटित की गयी है. इससे पहले निगम को पांच करोड़ रुपये बोर्ड की ओर से मिले थे. इसके उपयोगिता प्रमाण पत्र के बाद फिर से प्रदूषण पर नियंत्रण के लिए राशि उपलब्ध करायी गयी है.

स्मॉग टावर के लिए भी चल रही कवायद

शहरी क्षेत्र में प्रदूषण की वजह से सांस लेना मुश्किल है. स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के तहत चौतरफा चल रहे निर्माण की वजह से दिनों-दिन स्थित बदतर होती जा रही है. इससे निबटने के लिए नगर निगम प्रशासन की ओर से एयर प्यूरिफायर मशीन यानी स्मॉग टावर लगाने की कवायद शुरू हो गयी है. नगर आयुक्त ने बताया कि कुछ कंपनियों से बात हुई है. जिन शहरों में यह मशीन काम कर रही है, वहां मशीन कितनी सफल है, इसकी छानबीन के बाद खरीदारी की प्रक्रिया शुरू होगी. स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट में भी इसे शामिल किया गया है.

Share This Article.....

Leave a Reply

Your email address will not be published.