PM मोदी को भाया मुजफ्फरपुर की ‘टीके वाली नाव’, मन की बात में की जमकर तारीफ

मुजफ्फरपुर‌। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज मन की बात की। इसमें उन्होंने टीकाकरण को लेकर हुए अनूठी पहल की बात की। हाल में कोरोना टीकाकरण के 100 करोड़ के लक्ष्य को पार करने की चर्चा करते हुए मुजफ्फरपुर की टीके वाली नाव का उल्लेख किया। पिछले दिनों बागमती नदी में चलाई गई टीके वाली नाव की चर्चा की। पीएम मोदी के मन की बात में इसकी चर्चा होने के बाद अभियान में शामिल लोग अपने को गौरवान्वित महसूस कर रहे हैं।




सिविल सर्जन डॉ विनय कुमार शर्मा ने कहा कि स्वास्थ्यकर्मियों के सहयोग से बाढ़ प्रभावित इलाके के लोगों को शत-प्रतिशत टीका देने के उद्देश्य से इस अभियान को चलाया गया था। केयर इंडिया के जिला समन्वयक सौरभ तिवारी व उनकी टीम के सहयोग से टीके वाली नाव का अभियान सफल रहा। केयर इंडिया के जिला समन्वयक सौरभ तिवारी ने मन की बात में इसकी चर्चा का स्वागत करते हुए कहा कि कोरोना को भगाने के लिए स्वास्थ्य विभाग के साथ उनकी टीम लगातार सहयोग कर रही है। तिवारी ने कहा कि टीके वाली नाव की परिकल्पना जिलाधिकारी प्रणव कुमार ने की थी और बाद में स्वास्थ्य विभाग के साथ मिलकर इसे सफलीभूत किया गया।


कोरोना से जंग को बागमती में टीके वाली नाव
कटरा प्रखंड में दो नावों का परिचालन शुरू किया गया था। सिविल सर्जन डा.विनय कुमार शर्मा ने पानी में उतरकर नाव को रवाना किया था। प्रत्येक नाव पर दो एएनएम, दो गोताखोर और नाविक की टीम‌ थी। नाव की उपलब्धता जिला प्रशासन ने और एएनएम व गोताखोर की व्यवस्था स्वास्थ्य विभाग ने की थी। दोनों नावों से कटरा में बाढ़ प्रभावित 14 पंचायतों में जाकर टीकाकरण का कार्य किया। टीकाकरण के लिए राज्य में इस तरह का पहला प्रयास किया गया था।


सीएस ने बताया कि यह पहल ‌टीकाकरण से कोई वंचित न रह जाए, इसलिए कटरा में नाव का परिचालन शुरू किया गया। नाव पर स्वास्थ्यकर्मियों की सुरक्षा के सभी इंतजाम किए गए थे। उन्होंने बताया कि इस तरह नाव की परिकल्पना जिलाधिकारी ने की थी, जिसे बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में मूर्तरूप दिया गया।


केयर संस्था कर रही सहयोग
सिविल सर्जन डॉ शर्मा ने कहा कि टीकाकरण को सफल बनाने में केयर संस्था सहयोग कर रही। संस्था के जिला समन्वयक सौरभ तिवारी ने कहा कि उनके टीम का ‌सहयोग रहा आगे भी रहेगा।

INPUT: JNN

Share This Article.....

Leave a Reply

Your email address will not be published.