जाम से निजात के लिए मुजफ्फरपुर जंक्शन पर बनेगा एलिवेटेड रोड, जानिए कैसे होगा यात्रियों को फायदा ?

स्टेशन पुनर्विकास योजना के तहत मुजफ्फरपुर जंक्शन परिसर में एलिवेटेड रोड बनाया जाएगा। इसका निर्माण जंक्शन परिसर स्थित जीआरपी के नए भवन व मालगोदाम चौक पर बनने वाली मल्टी स्टोरी पार्किंग बिल्डिंग तक होगा।

इस एलिवेटेड रोड से कॉनकोर्स के अलावा तीनों फुटओवर ब्रिज को जोड़ा जाएगा। इससे यात्रियों को भारी सामान लेकर जंक्शन परिसर आने-जाने में सुविधा होगी।

स्टेशन रोड में अत्यधिक ट्रैफिक को लेकर लेकर रेल भूमि विकास प्राधिकरण (आरएलडीए) ने जंक्शन के सर्कुलेटिंग एरिया में एलिवेटेड रोड निर्माण का निर्णय लिया है। स्टेशन पुनर्विकास योजना के तहत मुजफ्फरपुर जंक्शन को सिटी सेंटर के रूप में विकसित किया जाना है। रेलवे के इंजीनियरिंग विभाग के अधिकारियों ने बताया कि अधिक ट्रैफिक व भूमि की कमी को लेकर जंक्शन के सर्कुलेटिंग एरिया में एलिवेटड रोड तकनीकी रूप बेहतर विकल्प है। एलिवेटेड रोड के नीचे व आसपास शौचालय, पार्किंग, पार्सल, टिकट काउंटर, कैफेटेरिया व कैटरिंग स्टॉल आदि सुविधाएं विकसित की जा सकती हैं। योजना के तहत मुजफ्फरपुर जंक्शन पर 450 करोड़ रुपये से विश्व स्तरीय यात्री सुविधाओं को विकसित किया जाना है। निर्माण कार्य के लिए दो वर्ष की समय अवधि तय की गई है। छठ के बाद प्लेटफॉर्म पर निर्माण कार्य शुरू करने की तैयारी की जा रही है।

आरक्षण टिकट केंद्र में मिलेगा यूटिएस टिकट

जंक्शन स्थित आरक्षण टिकट केंद्र में जनरल टिकट मिलेगा। स्टेशन पुनर्विकास योजना के तहत सबसे पहले यूटीएस भवन को तोड़ा जाना है। इसे लेकर यूटीएस काउंटर को आरक्षण टिकट केंद्र के भवन में स्थानांतरित किया जाएगा। इसके लिए वायरिंग आदि का कार्य शुरू हो गया है। यह अस्थायी व्यवस्था होगी। निर्माण कार्य को लेकर सोनपुर रेल मंडल के सहायक वाणिज्य प्रबंधक नरेंद्र कुमार ने शनिवार को जंक्शन परिसर का जायजा लिया। मौके पर स्टेशन अधीक्षक अखिलेश कुमार सिंह समेत कई अधिकारी थे। वहीं, अंडरग्राउंड वायरिंग को लेकर निर्माण एजेंसी की टीम ने जंक्शन के प्लेटफॉर्म एक पर सर्वे किया।

क्या होता है एलिवेटेड रोड

एलिवेटेड रोड का निर्माण उन जगहों पर होता है जहां ट्रैफिक ज्यादा रहती है। एलिवेटड रोड तकनीकी रूप से एक पुल की तरह होता है। वैसे इलाकों में एलिवेटेड रोड निर्माण को प्राथमिकता दी जाती है जहां घनी आबादी की वजह से जमीन का अधिग्रहण मुश्किल हो जाता है। इसके अतिरिक्त नजदीकी इलाकों को भी एलिवेटड रोड के सहारे जोड़ा जा सकता है।

Share This Article.....

Leave a Reply

Your email address will not be published.