ठेला चालक से शराब माफिया बना Muzaffarpur का ‘मिथुन’, देखते ही देखते अर्जित की अकूत संपत्ति

मुजफ्फरपुर। पश्चिम बंगाल के सियालदह से विशेष पुलिस टीम के हत्थे चढ़ा शराब धंधेबाज मीनापुर खेमाईपटटी का मिथुन पहले ठेला चलाता था। बंगाल में ठेला चलाने के दौरान उसका संपर्क शराब सिंडिकेट के एक धंधेबाज से हुआ और इसके बाद वह इस धंधे में शामिल हो गया।




धीरे-धीरे उसने शराब के धंधे से अकूत संपत्ति अर्जित की। पुलिस पूछताछ में मिथुन ने शराब के धंधे से जुड़े कई बड़े धंधेबाजों के नाम व ठिकाने की जानकारी दी है। शराब के पूरे सिंडिकेट के बारे में कई अहम जानकारी उसने दी है। जिस पर विशेष टीम की कार्रवाई चल रही है। साथ ही उसकी संपत्ति के बारे में भी पुलिस पता लगा रही है। उसके विभिन्न बैंकों में खाते हैं। उसकी जांच कर डिटेल्स निकाला जा रहा है, ताकि खाते को फ्रीज करने के साथ संपत्ति जब्त करने की भी कवायद की जा सके।


बताया गया कि 2017 से शराब के धंधे में मिथुन सक्रिय हो गया था। पूर्वी क्षेत्र के मीनापुर से लेकर पश्चिम बंगाल तक के बैंक खातों की डिटेल्स निकाली जा रही है। इसको लेकर पुलिस ने उससे पूछताछ कर करीब एक दर्जन से अधिक बैंक खाते की जानकारी हासिल की है। दूसरी ओर मिथुन के पास से जो मोबाइल मिला है। उसका भी काल डिटेल्स निकालकर उस पर कार्रवाई की जा रही है। प्रारंभिक जांच में उसके मोबाइल से करीब एक दर्जन से अधिक ऐसे नंबर मिले है, जो शराब के अंतरराज्यीय सिंडिकेट से जुड़े धंधेबाज हैं। इसमें कई सफेदपोश के नंबर भी हैं। हालांकि जांच प्रभावित होने की वजह से पुलिस ने इसका पर्दाफाश अभी नहीं किया है। विशेष टीम के पदाधिकारियों व वरीय अधिकारियों ने पूछताछ के बाद मिथुन को फिलहाल गायघाट थाने के हवाले कर दिया है। कहा जा रहा कि उसे गायघाट थाने में दर्ज मामले में फिलहाल न्यायिक हिरासत में भेजा जाएगा। इसके बाद अन्य केसों में उसे रिमांड किया जाएगा।

INPUT: JNN

Share This Article.....

Leave a Reply

Your email address will not be published.