BRA बिहार यूनिवर्सिटी के कामर्स विभाग में अध्यक्ष की कुर्सी के लिए शिक्षकों में विवाद, कामकाज ठप

मुजफ्फरपुर: बीआरए बिहार विश्वविद्यालय के पीजी कामर्स विभाग में गुरुवार को अध्यक्ष की कुर्सी को लेकर निवर्तमान अध्यक्ष व वरीय शिक्षक में विवाद हो गया। दोनों के बीच बात इतनी बढ़ गई कि पुलिस को हस्तक्षेप करना पड़ा।




वहां पहुंचे छात्रों से भी शिक्षकों की बहस हुई। जानकारी के अनुसार, कामर्स के विभागाध्यक्ष डा.प्रेमानंद को एक दिसंबर 2018 को कार्यभार सौंपा गया था। ऐसे में उनका कार्यकाल 30 नवंबर को समाप्त हो गया। डा.प्रेमानंद ने कहा कि तत्कालीन कुलपति के आदेश से उन्हें तीन महीने बाद विभाग का जिम्मा सौंपा गया था। ऐसे में तीन महीने कार्यकाल बढ़ना चाहिए।


वहीं विभाग के वरीय प्राध्यापक डा.आले मुज्तबा का कहना है कि जिस तिथि को पत्र जारी हुआ था कार्यकाल उसी दिन से जोड़ा जाएगा। ऐसे में डा.प्रेमानंद का कार्यकाल समाप्त हो चुका है। विभागाध्यक्ष की कुर्सी को लेकर हो रहे खींचतान में विभाग में दो दिनों से कामकाज ठप हो गया है। कक्षाएं भी प्रभावित हो रही हैं। गुरुवार को हंगामा और शिक्षकों के साथ हुए विवाद के बाद विवि पुलिस ने पहुंचकर मामला शांत कराया।


छात्रों ने कहा-विभाग में तनावपूर्ण माहौल, अधिकारी करें हस्तक्षेप
कामर्स विभाग में अध्यक्ष की कुर्सी को लेकर हुए विवाद के कारण विभाग का कामकाज ठप हो गया है। छात्रों ने इसको लेकर देर शाम कुलपति से मुलाकात कर उन्हें इससे अवगत कराया। कहा कि कुर्सी के लिए विभाग में तनाव का माहौल हो गया है। ऐसे में विवि के अधिकारियों को हस्तक्षेप कर मामला शांत कराने की जरूरत है। कुलपति प्रो.हनुमान प्रसाद पांडेय ने इसपर कहा कि मामले को लेकर जांच कमेटी का गठन किया गया है।


कमेटी यह देखेगी कि उस समय एक्सटेंशन दिया गया तो वह आधार बनेगा या नहीं। कमेटी की रिपोर्ट के बाद विभागाध्यक्ष की नियुक्ति की जाएगी। कुलपति से मिलने वालों में संकेत मिश्रा, बद्री कुमार और पंकज सिंह शामिल हैं। बता दें कि पीजी भौतिकी, इलेक्ट्रानिक्स और गणित विभाग में भी स्थायी अध्यक्ष नहीं हैं। इनकी नियुक्ति में भी वरीयता को लेकर पेच फंसा हुआ है।

INPUT:

Share This Article.....

Leave a Reply

Your email address will not be published.