Drone से पेट्रोलिंग-नदियों में 24 घंटे गश्ती, जानिए मुजफ्फरपुर आए मद्य निषेध विभाग के अपर मुख्य सचिव ने दिए क्या क्या निर्देश

मुजफ्फरपुर। उत्तर बिहार के कई जिलों में शराब से हुई मौतों के बाद सरकार ने कड़ा रुख अख्तियार किया है। शुक्रवार को कलेक्ट्रेट सभागार में मद्य निषेध विभाग के अपर मुख्य सचिव केके पाठक ने कहा कि इस तरह की घटनाएं बर्दाश्त योग्य नहीं हैं।




उन्होंने देसी शराब के ठिकानों को ध्वस्त करने के लिए 24 घंटे नदी गश्ती (रिवर पेट्रोलिंग) करने का आदेश दिया। कहा कि इसके लिए आवश्यक सभी संसाधन जिलों को उपलब्ध कराए जाएंगे।


अपर मुख्य सचिव प्रमंडल में शराबबंदी की स्थिति की समीक्षा कर रहे थे। इस क्रम में उन्होंने कहा कि शराब के धंधे को ध्वस्त करने के लिए होम डिलीवरी के नेटवर्क को तोड़ना होगा। इसके लिए होम डिलीवरी में पकड़ाने वाले आरोपितों और संदिग्धों के कॉल रिकार्ड करने व कॉल डिटेल खंगालने का आदेश दिया।


होम डिलीवरी में स्कूली छात्रों के इस्तेमाल पर चिंता जताते हुए अधिकारियों को निगरानी बढ़ाने के आदेश दिए। उन्होंने कहा कि बॉर्डर इलाके के जिलों को एसएससबी के साथ सहयोग बढ़ाकर क्रॉस बॉर्डर शराब तस्करी रोकने के सख्त कदम उठाने होंगे। क्रॉस बॉर्डर शराब तस्करी के कारण हो रही छापेमारी व गिरफ्तारी पर उन्होंने संतोष जताया, लेकिन कहा कि बदनामी होम डिलीवरी से हो रही है।


होम डिलीवरी हर हाल में रोकी जाए। इस क्रम में उन्होंने चेतावनी दी कि यदि होम डिलीवरी पर रोक नहीं लगी तो संबंधित अधिकारियों पर भी सख्त कार्रवाई की जाएगी। बेतिया, मोतिहारी व सीतामढ़ी को बॉर्डर के आसपास जांच बढ़ाने व कड़ी कार्रवाई के आदेश दिए।

INPUT: Hindustan

Share This Article.....

Leave a Reply

Your email address will not be published.