Muzaffarpur में नशाखुरानी का शिकार हुआ व्यवसाई, अचेत होने पर सड़क किनारे फेंका

मुजफ्फरपुर में नशा खिलाकर लूटपाट करने वाला गिरोह सक्रिय है। अक्सर दूसरे प्रदेश से आने वाले लोगों को निशाना बनाकर लूटपाट की घटना को अंजाम दिया जाता है। खासकर जो लोग ट्रेन से देर रात मुजफ्फरपुर जंक्शन आते हैं। शनिवार को भी ऐसा ही एक मामला सामने आया है। पश्चिम बंगाल से अपने घर लौट रहे व्यवसाई सीताराम साह (60) को नशाखुरानी गिरोह ने शिकार बना लिया। लूटपाट करने के बाद सदर थाना के भगवानपुर में फेंक दिया।




स्थानीय लोगों ने इसकी सूचना सदर पुलिस को दी। ASI DK तिवारी ने मौके पर पहुंचकर व्यवसाई को उठाया और सदर अस्पताल में भर्ती कराया गया। वहां पर प्रारंभिक इलाज करने के बाद उन्हें SKMCH रेफर कर दिया गया। ASI ने बताया कि व्यवसाई के पास से बंडी के अंदर वाली जेब से 4 हज़ार रुपए मिले हैं। कुछ कपड़ा फेंका हुआ मिला और एक डायरी मिली। इसी से कुछ मोबाइल नम्बर मिला था। जिसपर संपर्क करने पर परिजन से बात हो सकी। इसी दौरान व्यवसाई के भतीजे विक्की भी सदर अस्पताल पहुंच गए।


कोयला और चायपत्ती का व्यवसाय :
बताया कि वे मीनापुर थाना क्षेत्र के छपरा वासुदेवपुर के रहने वाले हैं। उनके चाचा सीताराम पश्चिम बंगाल में पिछले छह महीने से रहते थे। वहां पर उनका कोयला और चायपत्ती का व्यवसाय है। शुक्रवार को वे ट्रेन से मुज़फ़्फ़रपुर जंक्शन रात को पहुंचे थे। इसके बाद घर जाने वाले थे। लेकिन, सुबह तक घर नहीं पहुंचे। इसी दौरान पुलिस द्वारा सूचना दी गयी। तब वे लोग अस्पताल पहुंचे। व्यवसाई के पास और कितने रुपये थे। इसका तो पता नहीं लगा।


खाद्य या पेय पदार्थ में मिलाया होगा नशा :
पुलिस आशंका जता रही है कि जब वे स्टेशन से घर जाने को निकले होंगे। तभी कोई वाहन वाला मिला होगा। जिसने उन्हें घर तक पहुंचाने की बात कही होगी। रास्ते मे किसी खाद्य या पेय पदार्थ में नशा मिलाकर खिला दिया होगा। इसके बाद रुपए लूटकर अचेत हालत में फेंक दिया होगा। बंडी के अंदर में रुपए पर लूटेरों की नज़र नहीं पड़ी होगी। ASI ने बताया कि अक्सर इसी तरह से नशाखुरानी गिरोह लोगों को शिकार बनाता है। इस घटना में भी यही आशंका जाहिर की गई है। वैसे जब होश आएगा तभी बयान दर्ज हो सकता है।

INPUT: Bhaskar

Share This Article.....

Leave a Reply

Your email address will not be published.