Rail यात्रियों की सेहत से खिलवाड, ट्रेनों में फर्जी वेंडर IRCTC के ड्रेस में परोस रहे दूषित खाना

आईआरसीटीसी (इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म सर्विस) की फर्जी ड्रेस में अवैध वेंडर रेल यात्रियों के बीच धड़ल्ले से दूषित भोजन परोस रहे हैं। यात्रियों की सेहत के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं।




इनका धंधा संगठित रूप से जंक्शन व ट्रेनों में चल रहा है। हाल में ट्रेनों व यात्रियों की संख्या में बढ़ोतरी से इनकी चांदी कट रही है।


बीते दिनों जंक्शन पर वाणिज्य विभाग की जांच के दौरान आईआरसीटीसी की फर्जी ड्रेस के साथ पकड़े गए वेंडर के खुलासे से अधिकारी सकते में पड़ गए। वेंडर ने बताया कि जंक्शन पर सामान बेचने के लिए प्रतिदिन एक ठेकेदार डेढ़ सौ रुपये वसूल करता है। ड्रेस उपलब्ध कराकर जंक्शन व ट्रेनों में खानपान का सामान बेचने के लिए भेजा जाता है। उसने ठेकेदार का पता पूसा बताया। अवैध वेंडर मनमानी कीमत पर यात्रियों को बेहद घटिया खाना बेचते हैं। आरपीएफ इंस्पेक्टर पीएस दुबे ने बताया कि जंक्शन पर अवैध वेंडर के खिलाफ अभियान चल रहा है। मंगलवार को छह अवैध वेंडर पकड़े गए। इनमें दो आईआरसीटीसी की फर्जी ड्रेस में थे।


लोगो दिखाकर यात्रियों से करते हैं धोखाधड़ी
यात्रियों को धोखा देने के लिए अवैध वेंडर आईआरसीटीसी की फर्जी ड्रेस का इस्तेमाल कर रहे हैं। अवैध वेंडर ड्रेस पर लगा आईआरसीटीसी का लोगो दिखाकर खुद को अधिकृत बताते हैं। ड्रेस देखकर टीटीई व सुरक्षा बल के जवान भी अवैध वेंडरों पर कार्रवाई नहीं कर पाते हैं।


लंबी दूरी वाली ट्रेनों में वेंडरों का कब्जा
कोरोना के कारण ट्रेनों में खानपान पर लगाए गए पाबंदियों से अवैध वेंडरों की चांदी कट रही है। ट्रेनों में पूर्व से तैयार डिब्बाबंद खाना बेचने की नियम से अवैध वेंडरों की कमाई बढ़ गई है। गर्म व ताजा भोजन के नाम पर वेंडर यात्रियों को बासी व घटिया तेल आदि सामानों से तैयार खाना उपलब्ध करा रहे हैं। जंक्शन के अलावा अवध-असम, मिथिला, आम्रपाली, पवन, मौर्या, पूर्वांचल, बाघ व वैशाली एक्सप्रेस जैसी महत्वपूर्ण ट्रेनों में वेंडर घटिया भोजन परोस रहे हैं। प्राय: अवैध वेंडर गंदगी के बीच खाने के सामान का स्टॉक करते हैं।


रेलवे की ओर से तय कीमत व अवैध वेंडरों की कीमत (रुपये में)
स्टैंडर्ड टी 05 10
पानी 15 20
दो समोसा 20 30
जनता मिल 20 30
आमलेट 20 30

INPUT: Hindustan

Share This Article.....

Leave a Reply

Your email address will not be published.