Bihar में डकैतों का गजब कारनामा : Police बन शराब चेकिंग के बहाने घर में घुसे और हथियार के नोक पर लाखों लूटे

नीतीश कुमार के शराबबंदी कानून में शराब चेकिंग के लिए किसी पुलिस वाले को किसी के भी घर किसी भी वक्त घुसने और सर्च करने का अधिकार है. पुलिस के इस अधिकार के दुरूपयोग के कई मामले सामने आये हैं. अब एक नये तरीके का मामला सामने आया है. एक घर में घुस गये डकैतों ने गृह स्वामी से कहा कि वे पुलिस वाले हैं औऱ शराब की चेकिंग करने आये हैं.फिर आराम से 9 लाख की डकैती की और निकल गये.




शराब चेकिंग के नाम पर डकैती
घटना गुरूवार की रात को अंजाम दिया गया. हसनपुरा थाना क्षेत्र के कन्हौली गांव में हथियार से लैस डकैत आधी रात में एक घर में घुस आये. खुद को पुलिस बताया औऱ शराब चेकिंग के नाम पर पूरे घर को खंगाल दिया. इसी दौरान 9 लाख रूपये के कैश, गहने और सामान लूट लिये. डकैतों के निकल जाने के बाद पुलिस लकीर पीट रही है.


डकैती की शिकार बनी सुशीला कुंवर ने बताया कि गुरुवार रात घर के सभी लोग सोये थे. वह अपने पोते के साथ बरामदे में ही सोयी थी. देर रात लगभग एक दर्जन लोग घर में घुस आय़े. उन्होंने मुझे जगाया औऱ कहा कि हम पुलिस वाले हैं. हमें खबर मिली है कि तुम्हारे घर में शराब औऱ गांजा छिपाया गया है. तुम लोग शराब बेचते हो. इसलिए पूरे घर की तलाशी लेनी है. घर में घुसे लोगों ने पहले बरामदे पर रखे बैग और बोरों को खंगालना शुरू कर दिया.


पुलिस के झांसे में फंस गये घर के लोग
इसी बीच शोर शराबा सुनकर घऱ के दूसरे लोग भी जाग गये औऱ बरामदे में पहुंच गये. उन लोगों ने कहना शुरू किया-सर, हम लोग शराब नहीं बेचते हैं. आपको गलत खबर मिली है. जैसे ही घर के लोग बाहर निकले वैसे ही डकैतों ने उन्हें हथियार की नोंक पर अपने कब्जे में ले लिया. घर के लोगों को अपने कब्जे में लेने के बाद डकैत सभी कमरों में घुसे और सारा कीमती सामान लूट लिया. डकैतों ने करीब 6 लाख के गहने, बर्तन, कपड़े,कंबल समेत 9 लाख रुपये का समान लूट लिया.


बगल में गश्ती कर थी असली पुलिस लेकिन भनक नहीं मिली
डकैती की शिकार बनी सुशीला कुंवर ने बताया कि सारे बदमाश हथियारों से लैश थे औऱ भोजपुरी में बोल रहे थे. उन्होंने करीब एक घंटे तक घर में लूटपाट मचाते रहे. सारा सामान लूटने के बाद वे घर के पीछे से रास्ते से पैदल ही निकल भागे. उनके भागने के बाद घर के लोगों ने शोर मचाया तो आस-पास के लोग वहां पहुंचे और मामला जानकर हैरान रह गये. उसके बाद स्थानीय थाने को मामले की जानकारी दी. पता चला कि थाने की पुलिस गांव के बगल में ही गश्त कर रही थी.


शुक्रवार को सीवान के एसडीपीओ जितेंद्र कुमार पांडेय भी घटनास्थल पर पहुंचे और मामले की जानकारी ली. उन्होंने कहा कि थाने को इस घटना में शामिल अपराधियों की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी करने का निर्देश दिया गया है.

INPUT: FirstBihar

Share This Article.....

Leave a Reply

Your email address will not be published.