हो गया फैसला ! 20 अक्टूबर को बिहार वापस आ रहे है ‘लालू यादव’, राजनीतिक गलियारों में बढ़ने लगी सरगर्मियां

राबड़ी देवी के आवास पर तेजस्वी यादव की अध्यक्षता में शुक्रवार को RJD विधायकों की बैठक हुई। इसमें लालू प्रसाद यादव के बड़े बेटा तेज प्रताप यादव शामिल नहीं हुए। इसके बाद तरह-तरह की चर्चा होने लगी। बैठक के बाद पार्टी के मुख्य प्रवक्ता भाई विरेंद्र ने बताया कि लालू यादव 20 अक्टूबर को पटना आएंगे। तारापुर और कुशेश्वरस्थान विधानसभा उपचुनाव में प्रचार करेंगे। यह बैठक उपचुनाव में पार्टी की मजबूती के साथ जीतने की रणनीति बनाने के लिए बुलाई गई थी।




मई में बेल मिलने के बाद कोरोना काल में लालू दिल्ली में अपनी बेटी और राज्यसभा सांसद मीसा भारती के सरकारी आवास पर स्वास्थ्य लाभ ले रहे हैं। दो दिन पहले ही लालू प्रसाद ने कार्यकर्ताओं को ऑनलाइन संबोधित किया था।


भाई विरेंद्र ने कहा कि सभी लेफ्ट दलों का समर्थन RJD को मिला है। दोनों उपचुनाव जीतने की रणनीति बैठक में बनाई गई। विधायकों को निर्देश दिया गया है कि वह होटलों में ना रहे पंचायतों में जाकर रहे। पार्टी के उम्मीदवारों को जीत दिलाने के काम में लग जाएं। विधायक दल की बैठक शुरू होने से पहले तेजस्वी यादव ने जयप्रकाश नारायण और रामविलास पासवान की तस्वीर पर माल्यार्पण किया।


सरकार के कारनामों को उजागर करेंगे: रामानुज
दैनिक भास्कर से बातचीत में विधायक रामानुज प्रसाद ने बताया कि उपचुनाव को लेकर महत्वपूर्ण बैठक बुलाई गई थी। सांप्रदायिक शक्तियों को किस तरह से रोकना है इस बैठक में उसकी रणनीति बनी। उन्होंने बताया कि पांच राज्यों में उपचुनाव होने वाले हैं और सभी राज्यों को लेकर रणनीति बैठक में बनी। चुनाव में सरकार के कारनामों को उजागर करना हैं और चुनाव जीतना है। विधायक रामानुज प्रसाद ने कहा कि देश में आतंक फैलाया जा रहा है। किसानों के बदन पर गाड़ियां चलाई जा रही हैं। महागठबंधन में कोई बंटा हुआ नहीं है। विधायक तेज प्रताप यादव बैठक में नहीं पहुंचे? इस सवाल पर रामानुज प्रसाद ने कहा कि सभी लोगों की अपनी-अपनी तरह की व्यवस्थाएं होती हैं।

INPUT: Bhaskar

Share This Article.....

Leave a Reply

Your email address will not be published.