बिहटा के पूर्व थानेदार की संपत्ति कमाई से 83% अधिक, पत्नी और मां के नाम पर पटना-मुजफ्फरपुर में खरीदे जमीन के 5 प्लॉट

बिहटा के पूर्व थानेदार अवधेश कुमार झा ने अवैध कमाई और भ्रष्टाचार के जरिए बड़े पैमाने पर संपत्ति अर्जित की है। बिहार पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा की छापेमारी और जांच में 2009 बैच के इस इंस्पेक्टर की संपत्ति सरकारी आमदनी से 83% अधिक मिली है। बिहार पुलिस की नौकरी बतौर सब इंस्पेक्टर इन्होंने ज्वाइन की थी। बाद में प्रमोशन मिला और इंस्पेक्टर बन गए। अब तक की नौकरी में पूर्वी चम्पारण और पटना जिले में इनकी पोस्टिंग रही। इसी बीच बिहटा में थानेदार रहे। आरोप है कि इसी दरम्यान बालू माफियाओं का जमकर साथ दिया। इनकी मदद से खूब अवैध कमाई की।

भ्रष्टाचार के रास्ते पर चलकर अकूत संपत्ति बनाई। मां और अपनी पत्नी के नाम पर पटना के दानापुर, विक्रम और मुजफ्फरपुर में जमीन के 5 प्लॉट खरीदे। इस पर कुल 59.8 लाख रुपए खर्च किए। 15.95 लाख से अधिक की इनकी चल अचल संपत्ति मिली है। सरकारी सैलरी से इन्होंने अब तक 60 लाख रुपए कमाए हैं। आर्थिक अपराध शाखा की जांच में 49.77 लाख रुपए की आय से अधिक संपत्ति मिली है। भ्रष्टाचार के आरोप में इंस्पेक्टर अवधेश कुमार झा पहले से सस्पेंड हैं। वर्तमान में पूर्णिया के IG ऑफिस में पोस्टेड हैं।

दो ठिकानों पर एक साथ की थी छापेमारी

असल में शुक्रवार की सुबह बिहार पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा ने इंस्पेक्टर के उपर अपना शिकंजा कसा था। इनके दो ठिकानों पर एक साथ छापेमारी की थी। पहला ठिकाना पटना में है। पाटलिपुत्रा थाना के तहत कुर्जी में श्रीचंद हाई स्कूल के पास का किराए का मकान है। जिस दूसरे ठिकाने पर छापेमारी की गई, वो मुजफ्फरपुर के सकरा के मझौलिया स्थित अवधेश कुमार झा का पुश्तैनी घर है।

आर्थिक अपराध शाखा पिछले साल से ही बालू के अवैध खनन और इसके खेल में शामिल सरकारी अफसरों के खिलाफ पहले जांच कर सबूत जुटा रही है। फिर उनके उपर कार्रवाई कर रही है। इसी क्रम में इंस्पेक्टर अवधेश कुमार झा का नाम सामने आया। ADG नैयर हसनैन खान के अनुसार 4 मई को पटना में EOU ने अवधेश कुमार झा के खिलाफ भ्रष्टाचार और आय से अधिक संपत्ति का केस दर्ज किया था। इसके बाद कोर्ट से सर्च वारंट लिया गया। फिर टीम का गठन हुआ और आज कार्रवाई की गई।

Share This Article.....

Leave a Reply

Your email address will not be published.